Khalistani: “मुझे खालिस्तानी केसे बोला..?”; BJP नेता ने IPS/IB ऑफिसर को बोल दिया खालिस्तानी

0
303
Khalistani: "मुझे खालिस्तानी केसे बोला..?"; BJP नेता ने IPS/IB ऑफिसर को बोल दिया खालिस्तानी
Khalistani: "मुझे खालिस्तानी केसे बोला..?"; BJP नेता ने IPS/IB ऑफिसर को बोल दिया खालिस्तानी

Khalistani: पश्चिम बंगाल में तैनात एक सिख भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी का एक वीडियो मंगलवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गया, जब विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी के विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी ने कथित तौर पर BJP पार्टी के विरोध प्रदर्शन के दौरान उन्हें ‘खालिस्तानी’ बोल दिया। यह घटना संदेशखाली की है, अधिकारी को Khalistani वाले बयान से देश में बड़ा राजनीतिक विवाद पैदा हो गया।

IPS जसप्रीत सिंह को BJP नेता ने कह दिया ‘खालिस्तानी’ (Khalistani)

अधिकारी के नेतृत्व में भाजपा विधायक पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के संदेशखाली गांव में प्रवेश करने की कोशिश कर रहे थे, तभी अचानक उन्होंने आईपीएस अधिकारी जसप्रीत सिंह पर ‘खालिस्तानी’ होने का आरोप लगाया। सिंह पश्चिम बंगाल के बशीरहाट पुलिस स्टेशन में विशेष पुलिस अधीक्षक (एसएसपी), खुफिया शाखा (आईबी) के पद पर तैनात हैं।

IPS जसप्रीत सिंह को BJP नेता ने कह दिया 'खालिस्तानी' (Khalistani)
IPS जसप्रीत सिंह को BJP नेता ने कह दिया ‘खालिस्तानी’ (Khalistani)

यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ, विपक्षी दलों ने भाजपा पर उसके ‘अल्पसंख्यक विरोधी’ रुख और अपशब्दों के इस्तेमाल की आलोचना की।

Khalistani कोमेंट पर पंजाब के नेताओ ने साधली चुप्पी

दो भाजपा नेता – आसनसोल दक्षिण विधायक अग्निमित्रा पॉल और अधिकारी – वीडियो में प्रमुखता से दिखाई दे रहे हैं, जहां उन्हें पुलिस के साथ बहस करते देखा जा सकता है। बीजेपी बैकफुट पर है; इसका पंजाब नेतृत्व इस प्रकरण पर चुप है।

IPS अधिकारी जसप्रीत सिंह ने क्या कहा..?

“चूंकि सीआरपीसी की धारा 144 लागू थी, हमने पश्चिम बंगाल विधानसभा में विपक्ष के नेता सुवेंदु अधिकारी के नेतृत्व में राजनेताओं (भाजपा विधायकों) के एक समूह को संदेशखाली में प्रवेश करने से रोकने की कोशिश की। जब हमने राजनेताओं को रोका तो सुवेंदु अधिकारी ने मुझे ‘खालिस्तानी’ (Khalistani) कहा, जो पूरी तरह से अस्वीकार्य था। मैंने इसके खिलाफ कड़ी प्रतिक्रिया दी,”

मामला गरमाया तो BJP नेता पीछे हट गए और महिला नेता आगे आ गईं

हरियाणा के फरीदाबाद के 2016 बैच के आईपीएस अधिकारी ने कहा कि जब उन्होंने अधिकारी का सामना किया, तो भाजपा नेता पीछे हट गए और महिला नेता आगे आ गईं। उन्होंने कहा, “तभी सुवेंदु अधिकारी पीछे गए और वहां बैठ गए।”

आखिर क्यों सोशियल मिडिया पर पंजाबी विरोध चलाया जा रहा है ट्रेंड

यह घटना ऐसे समय में हुई जब किसान, जिनमें से कई सिख है जो ‘दिल्ली चलो’ मोर्चा के लिए दिल्ली जा रहे है, उन्हें पहले से ही ‘खालिस्तानियों’ (Khalistani) के रूप में ब्रांड किया जा रहा है और सोशल मीडिया पर देश विरोधी होने के आरोप लगाए जा रहे है, उनको हमले का सामना करना पड़ रहा था। 13 फरवरी को दिल्ली चलो मोर्चा शुरू होने के बाद से ही सोशल मीडिया साइट एक्स पर ‘खालिस्तानी’ ट्रेंड कर रहा है।

नेताओं ने BJP की आलोचना की

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर जमकर निशाना साधा और एक्स पर लिखा: “आज बीजेपी की विभाजनकारी राजनीति ने बेशर्मी से संवैधानिक सीमाओं को लांघ दिया है। बीजेपी के मुताबिक पगड़ी पहनने वाला हर शख्स खालिस्तानी (Khalistani) है.”

टीएमसी ने एक प्रेस नोट भी जारी किया जिसमें कहा गया कि देश भर में आक्रोश फैलते हुए, अधिकारी ने मंगलवार को संदेशखली में कानून और व्यवस्था की स्थिति को बिगाड़ने का प्रयास करते हुए एक ऑन-ड्यूटी आईपीएस अधिकारी को खालिस्तानी के रूप में संदर्भित किया। इसमें कहा गया, “यह कलकत्ता उच्च न्यायालय के निर्देशों का घोर उल्लंघन था, जिसने नेता को क्षेत्रों में भड़काऊ भाषण जारी करने से विशेष रूप से प्रतिबंधित किया था।”

एक सम्मेलन को संबोधित करते हुए एआईटीसी महिला विंग की अध्यक्ष चंद्रिमा भट्टाचार्य ने कहा, “देश ने 2014 से पहले इस स्तर की विभाजनकारी राजनीति नहीं देखी थी, जिस वर्ष भाजपा सत्ता में आई थी। तब से, हमने भाजपा को कई बार ऐसी रणनीति में शामिल होते देखा है। किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान भी, उन्होंने इसी तरह की रणनीति अपनाई थी।

शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने इस घटना पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की

पंजाब विधानसभा में विपक्ष के नेता और वरिष्ठ कांग्रेस नेता प्रताप सिंह बाजवा ने भी कहा, ”यह शब्दों से परे शर्मनाक है। पश्चिम बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ता एक सिख आईपीएस अधिकारी को सिर्फ इसलिए खालिस्तानी कह रहे हैं क्योंकि वह अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। क्या सिखों के बारे में बीजेपी यही सोचती है? इस गुंडागर्दी को अंजाम देने और सिखों को खालिस्तानियों के रूप में चित्रित करने की कोशिश करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जानी चाहिए।

लेटेस्ट खबरो के लिए  यहाँ क्लिक करे

यूट्यूब चैनल पर शॉर्ट्स देखने के लिए यहाँ क्लिक करे

पंजाब में और क्या चल रहा है – यहाँ से क्लिक कर के जाने

दिलचस्प खबरों के लिए यहाँ क्लिक करे